अनुसंधान एवं विकास
इस प्रभाग में उपयोगकर्ता उद्योगों और सरकारी तथा गैर-सरकारी संगठनों को सेवाएं प्रदान करने के लिए निम्नलिखित सुविधाएँ और उपकरण उपलब्ध हैं :
1. विभिन्न काष्ठ प्रजातियों की पहचान के लिए विशेषज्ञता के साथ जाइलेरियम और भारतीय एवं विदेशी काष्ठ के नमूनों की प्रामाणिक पहचान ।
2. काष्ठ –डीकेयिंग फंगी, कीड़े, समुद्री काष्ठ बोरर और फौलर की प्रामाणिक पहचान।
3. संदर्भ और प्रयोगशाला बायोएसे के लिए काष्ठ-क्षयण कवक की कल्चर।
4. काष्ठ डिटरियोरेटिंग और कीड़े की रोकथाम के लिए कैंडीडेट काष्ठ संरक्षक रसायनों के त्वरित प्रयोगशाला बायोएसे ।
5. जैवनिम्नीकरण के विपरीत उनके प्रदर्शन का मूल्यांकन करने के लिएस्थलीय और समुद्री अवस्थाओं में काष्ठ और काष्ठ के उत्पादकि (उपचारित और अनुपचरित) की परीक्षण।
6. मजबूती संबंधी गुणों का निर्धारण करने के लिए काष्ठ और काष्ठ के उत्पादों की परीक्षण ।
7. मृदा और पौधा विश्लेषण (दोनों सूक्ष्म और स्थूल पोषक तत्वों के लिए)।
8. वनस्पति प्रचार के लिए धुंध कक्ष (मिस्ट चैंबर) ग्रीन हाउस।
9. टिशू कल्चर प्रयोगशाला।
10 बीज प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला।
11. वनस्पति प्रचार सुविधाएं।
12. त्वरित अपक्षय प्रयोगों के लिए जेनोटेस्ट वेदरोमीटर।
13. सोलर सीजनिंग किल्न स्थापित करने के लिए काष्ठ सीजनिंग किल्न और विशेषज्ञता।
14. काष्ठ के संरक्षक उपचार के लिए प्रेसर ट्रीटमेंट प्लांट ।
15. टी.एल.सी.
16. जी.एल.सी.
17. एच.पी.एल.सी.
18. यूवी, आईआर और परमाणु अवशोषण स्पेक्ट्रोफोटोमीटर
19. एक्सरे प्रतिदीप्ति विश्लेषक
20. प्रवाह इंजेक्शन विश्लेषक
21. नाइट्रोजन विश्लेषक
22. बम कैलोरीमीटर
23. एफटीआईआर
24. इंटोमोलोजिकल अध्ययन के लिएबायोचैंबर
25 यूनिवर्सल परीक्षण मशीन
26. कैमरा और वीडियो सहित परिष्कृत सूक्ष्मदर्शीऔर छवि विश्लेषण प्रणाली और (एम) स्पेक्ट्रोफ्लुओरोमीटर
27. विभिन्न प्रयोगों हेतु काष्ठ के नमूने के प्रसंस्करण के लिए कार्यशाला।
28. तेल, गम, टैनिन और अन्य गैरकाष्ठ वन उत्पादों के रासायनिक विश्लेषण।
29. गुणवत्ता बीज की आपूर्ति के लिए चंदन का एक बीज बगीचा ।
30. कवक और कीट हमले की रोकथाम के लिए नर्सरी विकास, वन-संवर्धन और पौधा संरक्षण हेतु सलाह।
31. कृषि वानिकी प्रणाली में सुधार के लिए प्रौद्योगिकी के स्थानांतरण।
32. जैवनिम्नीकण दृष्टि से सदाबहार पारिस्थितिकी प्रणालियों केसंरक्षण और प्रबंधन हेतु सलाह।
33.सरल, सस्ता काष्ठ संरक्षण तकनीक (सैप विस्थापन विधि) हेतु सलाह।
34. कटमरैन,अन्य मछली पकड़ने के शिल्प और समुद्री संरचनाओं के लिए काष्ठ के उपयोग हेतु सलाह।
35. राज्य के वन विभाग के सहयोग से नगरूर में मॉडल नर्सरी स्थापित किया गया है।

विश्व बैंक सहायता प्राप्त परियोजना के तहत विशाखपत्तनम में समुद्री काष्ठ जैवनिम्नीकण पर अध्ययन के लिए एक तटीय प्रयोगशाला स्थापित किया गया है । कर्नाटक मेंजर्मप्लाज्म बैंक, उद्गम, संतति परीक्षण, गुणन उद्यान और बीज बगीचों की स्थापना के लिए 40 हेक्टेयर अतिरिक्त भूमि का अधिग्रहण किया गया है। विश्व बैंक की सहायता से भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद (आईसीएफआरई) का एक नया अनुसंधान केंद्र 100 एकड़ भूमि पर हैदराबाद में स्थापित किया जा रहा है।
 
   
  मुख्य पृष्ठ | संस्थान के बारे में | अनुसंधान गतिविधियाँ |अकादमिक | प्रकाशन | सुविधाएं | सेवाएं और परामर्श | विस्तार गतिविधियाँ | प्रशिक्षण | डाटाबेस| निविदा| उन्नत काष्ठकारी प्रशिक्षण केंद्र | अनुसंधान की स्थिति | आगामी आयोजन | फोटो गैलरी | संबंधित लिंक | आरटीआई | एफएक्यू | पूछें |संपर्क करें | English Website

Maintained by: Argon Solutions